JNU हमले के बाद घायल आइशी घोष ने सुनाई आप-बीती

दिल्ली। जवाहर लाल नेहरू छात्र संघ की अध्यक्ष आइशी घोष ने आरोप लगाया है कि परिसर पर हुआ हमला संगठित था। हमले में घोष भी घायल हुई हैं। घोष ने कहा है कि 'यह संगठित हमला था। वे लोगों को छांट-छांट कर उन पर हमला कर रहे थे। जेएनयू सुरक्षा और तोडफ़ोड़ करने वालों के बीच पक्का कोई साठ-गांठ थी। उन्होंने हिंसा रोकने के लिए हस्तक्षेप नहीं किया। उन्होंने ने कहा पिछले चार-पांच दिन से आरएसएस से जुड़े कुछ प्रोफेसर हिंसा को बढ़ावा दे रहे थे, ताकि हमारे आंदोलन को तोड़ा जा सके।
आइशी घोष ने कहा कि जेएनयू कैंपस में जो अटैक हुआ है उसे भाजपा और आरएसएस के लोगों ने कराया है। उन्होंने साफ कहा कि रविवार को जेएनयू में हुए हमले को जामिया मिलिया इस्लामिया और एएमयू में हुई घटनाओं से अलग करके नहीं देखा जा सकता। JNU छात्र संघ की अध्यक्ष ने कहा कि पिछले 68 दिनों से फीस बढ़ोतरी वापस लेने को लेकर हम मुहिम चला रहे हैं, लेकिन 4-5 दिनों से संघ से जुड़े एबीवीपी के लोग इस आंदोलन को तोड़ने का प्रयास कर रहे थे। आइशी ने कहा कि JNUSU इसलिए रजिस्ट्रेशन का बहिष्कार कर रहा था। क्योंकि वीसी और शिक्षा मंत्री सुनने को तैयार नहीं हैं। ऐसे में उनके पास आखिरी रास्ता हिंसा ही है। लेकिन, फीस वापसी की मुहिम आगे भी जारी रहेगी। आप हम पर हमले करते रहो, हम जेएनयू की संस्कृति के मुताबिक बहस से जवाब देंगे। अब हम सीएए, एनआरसी के खिलाफ भी मुहिम जारी रखेंगे।'

0/Post a Comment/Comments

Please do not enter any Spam Link in the Comments box.

Previous Post Next Post
close