रेलवे में नौकरी दिलाने के नाम पर 30 करोड की ठगी, 2 गिरफ्तार

गाजियाबाद। रेलवे में नौकरी लगवाने के नाम पर 300 लोगों से 30 करोड की ठगी करने वाले गिरोह के 2 सदस्यों को पुलिस ने गिरफ्तार किया हैं। पकड़े गए ठगों के पास से रेलवे के 20 फर्जी अपॉइंटमेंट लेटर, 5 मेडिकल लेटर और रेलवे के नाम वाले लिफाफे भी बरामद हुए हैं। इस मामले में अनाम शिकायत थाने में आई थी। जिस पर  ट्रॉनिका सिटी थाना पुलिस ने गैंग के सदस्य विकास और सचिन को गिरफ्तार कर लिया। गिरोह रेलवे में नौकरी के नाम पर एक शख्स से 8 से 10 लाख रुपये लेता है। वही गिरोह के सरागना हितेश की गिरफ्तारी के लिए नागपुर पुलिस से मदद ली जाएगी। गैंग की तरफ से लोगों को रेलवे के लेटरहेड पर मेडिकल लेटर भेजा जाता था। यह मिलने के बाद उन्हें एक नंबर देकर किसी एक अस्पताल भेजा जाता था। वहां गैंग का ही सदस्य खुद को डॉक्टर बता जॉब के लिए मेडिकल करता था। इसके बाद कैंडिडेट्स को ट्रेनिंग का लेटर जारी किया जाता था।

आरोपियों ने बताया !
आरोपितों ने बताया कि गैंग की तरफ से विभिन्न जॉब वेबसाइट पर विज्ञापन डाला जाता था। विज्ञापन देखने के बाद बड़ी संख्या में जॉब तलाश रहे युवा उनसे संपर्क करते थे। संपर्क करने वालों को गैंग रेलवे का एक फॉर्म भेजता था। 2-3 दिन बाद गैंग का एक सदस्य एक-एक शख्स से मिलकर फॉर्म भरवाने के नाम पर 5 हजार रुपये जमा कराता था। कोई शक न हो इसके लिए गिरोह इन्हें दिल्ली के बड़ौदा हाउस स्थित उत्तर रेलवे के हेडक्वॉर्टर के पास बुलाया जाता था। यहां ऑफिस के बाहर गैंग के कुछ लोग खड़े रहते थे और खुद को रेलवे स्टाफ बताकर उनके फॉर्म जमा कर लेते थे और डिटेल एक रजिस्टर में लिखते थे। इसके बाद आगे की प्रक्रिया कराने के नाम पर 1 कैंडिडेट से 8-10 लाख रुपये मांगे जाते थे।

0/Post a Comment/Comments

Please do not enter any Spam Link in the Comments box.

Previous Post Next Post
close