डॉक्टर ने कहा- कोरोना वायरस से हुई मौत, तो शव छोड़कर अस्पताल से भागे परिजन

औरंगाबाद (बिहार)। जिले के सदर अस्पताल में डॉक्टर द्वारा मरीज की मौत कोरोना वायरस से बताये जाने के बाद अस्पताल में भगदड़ मच गई। वही कोरोना वायरस से युवक की मौत का कारण बताने पर मृतक के परिजन अस्पताल में शव छोड़कर भाग खड़े हुए। लोगों द्वारा समझाने के बाद मृतक के परिजन वापस आये। वहीं, अस्पताल प्रशासन ने भी शव को डेड बॉडी रखने वाले जगह पर ना रखकर बाहर खुले मे रख दिया। कोरोना वायरस से हुई मौत की खबर पूरे शहर में आग की तरह फैल गई। अस्पताल में मौजूद लोग मास्क पहनकर घूमते नजर आने लगे, अस्पताल में ड्यूटी पर तैनात डॉक्टर के एक बयान के बाद हाई वोल्टेज ड्रामे में जिला प्रशासन ने आनन फानन में प्रेसवार्ता कर माहौल को संभाला। उन्होंने बताया कि अभी कोरोना वायरस को युवक की मौत का कारण नहीं बता सकते है, पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही कुछ कहा जा सकता है। 
दरअसल, बता दे कि मृतक युवक जहानाबाद के हरिकिशन साव का 24 वर्षीय पुत्र बंटी कुमार बताया जा रहा है। वह एक सगाई समारोह में कैमरामैन के तौर पर लड़का पक्ष की ओर से समारोह में गया था। गुरुवार को अचानक उसकी तबीयत खराब हो गई और अस्पताल पहुंचते ही उसने दम तोड़ दिया। वही मृतक युवक बंटी ने जो लक्षण चिकित्सक को बताया, उसी के आधार पर अस्पताल में ड्यूटी कर रहे डॉक्टर साकेत कुमार ने मौत के पीछे कोरोना के लक्षण का हवाला दिया। इसके बाद अफरा-तफरी मच गई, हालांकि, सिविल सर्जन ने चिकित्सक के दावे को खारिज कर माहौल को सभांला !

0/Post a Comment/Comments

Please do not enter any Spam Link in the Comments box.

Previous Post Next Post
close