अपहरणकर्ता 30 लाख रुपया ले गए लेकिन बेटा नही मिला, देखती रह गई पुलिस

कानपुर। जिले के बर्रा निवासी एक पिता ने वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक से मिल पुलिस विभाग पर ऐसा आरोप लगाया की खलबली मच गई। पिता ने एसएसपी से कहा कि 22 जून को अपरहणकर्ताओं ने बेटे का अपहरण कर लिया और पुलिस ने उनको 30 लाख रुपया दिलवा दिये, लेकिन बेटे को वापस नहीं ला पाई हैं। यह रुपया पुलिस के सामने ही दिया गया था और अपहरणकर्ता रुपया लेकर भाग निकलने में सफल रहे। हालांकि पुलिस के आला अधिकारियों ने सर्विलांस टीम की मदद से इस मामले की जांच कराए जाने की बात कही है।

जानकारी के मुताबित, बर्रा-5 निवासी चमन सिंह का बेटा संदीप लैब टेक्नीशियन है और वह 22 जून से लापता है। परिजनों के मुताबिक, बेटे का अपहरण हुआ है। पीड़ित पिता ने बताया कि बेटी का बर्रा निवासी राहुल यादव से रिश्ता तय हुआ था। इस बीच उन्हें जानकारी हुई कि युवक अच्छी प्रवृत्ति का नहीं है तो उन्होंने रिश्ता तोड़ दिया। 22 जून को उनका बेटा संदीप पैथोलॉजी गया था, जिसके बाद वह घर वापस नहीं लौटा। इस पर थाना पुलिस से शिकायत करके राहुल पर बेटे के अपहरण का संदेह जताकर मुकदमा दर्ज कराया था। इसके बाद आरोपित फोन पर बेटे को छोड़ने के लिए 30 लाख रुपये की फिरौती की मांग करने लगे। बताया कि इतना रुपया न होने के बाद भी बेटे को छुडाने के लिए मकान बेच डाला।

एसपी साउथ अपर्णा गुप्ता का कहना है कि फिरौती की रकम अपहरणकर्ताओं को पुलिस के सामने देने की बात सरासर गलत है। ऐसा संभव नहीं है कि पुलिस के सामने अपहरणकर्ता निकल जाएं। परिजन मानसिक रूप से परेशान हैं, उन्हें विश्वास में लिया गया है। प्रयास किया जा रहा है कि युवक को जल्द से जल्द बरामद किया जाए।

0/Post a Comment/Comments

Please do not enter any Spam Link in the Comments box.

Previous Post Next Post
close